समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

हो गए हैं आप तो ऋतुराज होली में

हो गए हैं आप तो ऋतुराज होली में
वे तरसते रंग को भी आज होली में

काँख में खाते दबाए आ गया मौसम
खून से वे भर रहे हैं ब्याज होली में

चौक में है आज जलसा भूल मत जाना
भूख की आँतें बनेंगी साज होली में

हर गली उद्दण्डता पर उतर आई है
खुल न जाए राजपथ का राज़ होली में

कब कई प्रह्लाद लेंगे आग हाथों पर ?
कब जलेगी होलिका की लाज होली में ? (104)

कोई टिप्पणी नहीं: