समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

देवताओं को रिझाया जा रहा है

देवताओं को रिझाया जा रहा है
पर्व कुर्सी का मनाया जा रहा है

भोर फाँसी की गई आ पास शायद
क़ैदियों को जो सजाया जा रहा है

आदमी की बौनसाई पीढ़ियों को
रोज़ गमलों में उगाया जा रहा है

जाम रखकर तलहथी पर भूख की अब
जागरण को विष पिलाया जा रहा है

पारदर्शी तीर धर लो शिंजिनी पर
व्यूह रंगों का बनाया जा रहा है (80)

कोई टिप्पणी नहीं: