समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

सबका झंडा एक तिरंगा होने दो

सबका झंडा एक तिरंगा होने दो
घायल नक्शे को अब चंगा होने दो

यह राजरोग कुर्सी ने फैलाया है
अब नहीं कहीं भी यूँ दंगा होने दो

बनो सपेरे, नाग इशारे पर नाचें
मत जयचंदों को दोरंगा होने दो

मस्जिदें तुम्हारे चरणों पर घूमेंगी
मुल्ला की फ़ितरत को नंगा होने दो

क्या कहा भगीरथ ? शंकर हो जाओगे
तुम ज़रा पसीने को गंगा होने दो (97)

कोई टिप्पणी नहीं: