समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

यूँ जवानी खो रहा है आदमी

यूँ जवानी खो रहा है आदमी
जानवर ही हो रहा है आदमी

पेट की खातिर सुनो इस धूप में
आदमी को ढो रहा है आदमी

रोशनी को क़त्ल करके, रात में
दाग़ अपने धो रहा है आदमी

पीढ़ियाँ फिर-फिर उगेंगी जूझती
ख़ून अपना बो रहा है आदमी

अब सृजन के गीत गाओ, अग्निकण!
फिर जगे जो सो रहा है आदमी (91)

कोई टिप्पणी नहीं: