समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

मंचों को छोड़ो सड़कों पे उतर आओ

मंचों को छोड़ो सड़कों पे उतर आओ
ये मुजरे छोड़ो अब नया तेवर गाओ

वे तो हमेशा छीनते रहे हैं रोटी
उठो, हक़ हासिल करो, हाथ मत फैलाओ

सबसे बड़ा देव है महनतकश आदमी
अंधी कुटी में आस्था के दीप जलाओ

बिखर न जाय यह टुकड़ा-टुकड़ा आसमान
लरजते शीशे को टूटने से बचाओ

कौन रोकेगा तुम्हें ‘निराला’ बनने से
मिमियाना छोड़ो तुम शेर हो गुर्राओ (87)

कोई टिप्पणी नहीं: