समर्थक

शनिवार, 10 नवंबर 2007

दीपावली : चार तेवरियाँ


लो दिवाली की बधाई , मित्रवर !
लो दिवाली की मिठाई ,मित्रवर !

एक दीपक के लिए मुहताज घर
आपने बस्ती जलाई , मित्रवर !

जल चुका रावण, न बुझती है चिता 
आग यह कैसी लगाई , मित्रवर !

चौखटों की छाँह तक बीमार है
क्यों हवा ऐसी चलाई , मित्रवर !

अब रहो तैयार लुटने के लिए ,
रोशनी तुमने चुराई , मित्रवर !

हर अँधेरी जेल तोडी जायगी ,
यह कसम युग ने उठाई , मित्रवर ! 


रोशनी जल  की परी है , दीपमाला है
रोशनी गिरवीं धरी है , दीपमाला है

कुर्सियों की दीप - लौ में सिंक रही रोटी
पेट की यह नौकरी है ,दीपमाला है

क्यों हँसी को छीन कर इतरा रहे हो तुम ?
आँख में लाली भरी है , दीपमाला है

दुधमुंहों के रक्त में जो स्नान कर आई
रोशनी वह मर्करी है , दीपमाला है

इन पटाखों से जलेगा यह महल ख़ुद ही
आज बागी संतरी है , दीपमाला है

अब सुरंगों में छिपा बारूद जलना है
रोशनी किससे डरी है ! दीपमाला है !! 


आपकी ये हवेली बड़ी
फुलझडी, फुलझडी, फुलझडी

आपने चुन लिए हार पर
भेंट दीं क्यों हमें हथकडी

आपकी राजधानी सजी
यह गली तो अँधेरी पडी

कुमकुमे , झालरें , रोशनी
हिचकियाँ , आंसुओं की लड़ी

आँख में जल चुके शब्द सब
होंठ पर कील जिनके जड़ी

देखिए , द्वार पर लक्ष्मी
हाथ में राइफल ले खड़ी

भागिए अब किधर  जबकि हर
लाश ने तान ली है छड़ी     


क्या हुआ जो गाँव में घर घर अँधेरा है
सज गई संसद भवन में दीपमाला तो

कुर्सियों की जीवनी में व्यस्त दरबारी
शब्द से चाहे न टूटे बंद ताला तो

आज मेरे स्कूल की छत गिर गई आख़िर
खुल रहीं उनकी विदेशी पाठशाला तो

भील - युवती ने कहा कल ग्राम मुखिया से
मार खाओगे अगर अब हाथ डाला तो

झोंपड़ी पर लिख रहे वे गीत रोमानी
दर्द आंसू पीर सिसकी घाव छाला तो

अब ज़रूरी अक्षरों में आग भरना है
नोंक हो तीखी कलम की तीर भाला तो

:.(स्रोत: तेवरी-१९८२, तरकश-१९९६).:

बुधवार, 10 अक्तूबर 2007

COPYRIGHT 2007.

© 2007. The blog author holds the copyright over all the blog posts, in this blog. Republishing in ROMAN or translating my works without permission is not permitted

मंगलवार, 9 अक्तूबर 2007

लाइये


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

लाइये

धुंध है घर में उजाला लाइये
रोशनी का इक दुशाला  लाइये

केचुओं की भीड़ आँगन में बढ़ी
आदमी अब रीढ़ वाला लाइये

जम गया है मॉम सारी देह में
गर्म फौलादी निवाला लाइये

जूझने का जुल्म से संकल्प दे
आज ऐसी पाठशाला लाइये

(स्रोत: ऋषभ देव शर्मा, तरकश प्रथम संस्करण १९९६, तेवरी प्रकाशन खतौली, पृष्ठ 16)

गुरुवार, 30 अगस्त 2007

आतंकवाद : दस तेवरियाँ

(1)
 मैं हिंदू हूँ मैं मुस्लिम हूँ मैं मस्जिद मैं मंदिर हूँ
मैं पूजा हूँ मैं नमाज़ हूँ म्लेच्छ और मैं क़ाफ़िर हूँ


मैंने अस्मत लूटी मैंने छुरा घोंप कर मारा है
ऐसे पुण्य कमाया वैसे अपराधी मैं शातिर हूँ


मैंने कलियों को रौंदा है मैंने फूलों को मसला
माली की नज़रों से फिर भी ओझल हूँ मैं जाहिर हूँ


मैंने जाम पिलाए सबको मैंने ज़हर मिलाया है
आग लगाकर हाथ सेंकने लड़वाने में माहिर हूँ


मैं तो ईश्वर का बंदर हूँ देश-वेश मैं क्या जानूँ
अवध, हैदराबाद, मुंबई जहाँ कहो मैं हाज़िर हूँ


(2)
एक बड़े ऊँचे फाटक से, आग उठी, सड़कों लहरी
सावधान, सच के प्रह्लादो ! इसमें है साजिश गहरी


दाग रहे वे हर जुबान को, आँख-आँख को वेध रहे
उनके कर्म विधान स्वयं ही, उनकी बात ऋचा ठहरी


कानों में सीसा डाले वे, शीशमहल में सोए हैं
उनकी वर्दी वाली पीढ़ी, सारी की सारी बहरी


बाजारों में ख़बर गर्म है, बिना बिकी कलमें तोड़ें
लोक जलाकर तंत्र बचाएँ, लोकतंत्र के वे प्रहरी


जले हुए अख़बार देखकर, कल मेरी बिटिया बोली ;
सब ग्वाले मिलकर यों नाचें, कुचल जाय कालिय ज़हरी


(3)
योगी बन अन्याय देखना, इसको धर्म नहीं कहते हैं
धर्म प्राण तो धर्म नाम पर, अत्याचार नहीं सहते हैं


नन्हीं मुझसे रोज़ पूछती, क्या अंतर मंदिर-मस्जिद में
ऊँजी बुर्जी की छाया में, ऊँचे अपराधी रहते हैं


धुआँ-धुआँ भर दिया गगन में, घर-घर में बारूद धर दिया
पग-पग पर ज्वालामुखियों के, विस्फोटों में जन दहते हैं


बहुत हुआ उन्माद रक्त का, बहुत किश्तियाँ लूट चुके वे
जब जनगण का ज्वार उफनता, पोत दस्युओं के बहते हैं


बाजों के मुँह खून लगा है, रोज़ कबूतर वे मारेंगे
आप मचानों पर चुप बैठे, कैसा पुण्य लाभ लहते हैं


(4)
दृष्टि धुँधली स्वाद कडुआने लगा
साजिशों का फिर धुआँ छाने लगा


धर्म ने अंधा किया कुछ इस तरह
आदमी को आदमी खाने लगा


भर दिया बारूद गुड़िया चीर कर
झुनझुनों का कंठ हकलाने लगा


दैत्य "मानुष-गंध-सूँ-साँ' खोजता
दाँत औ' नाखून पैनाने लगा


नाभिकी-बम सूँड में थामे हुए
हाथियों का दल शहर ढाने लगा


यह मनुजता को बजाने की घड़ी
मुट्ठियों में ऐंठ सा आने लगा


(5)
पग-पग घर-घर हर शहर, ज्वालामय विस्फोट
कुर्सी की शतरंज में, हत्यारी हर गोट


आग लगी इस झील में, लहरें करतीं चोट
ध्वस्त न हो जाएँ कहीं, सारे हाउस बोट


कुर्ता कल्लू का फटा, चिरा पुराना कोट
पहलवान बाजार में, घुमा रहा लंगोट


सीने को वे सी रहे, तलवारों से होंठ
गला किंतु गणतंत्र का, नहीं सकेंगे घोट


जिनका पेशा खून है, जिनका ईश्वर नोट
उन सबको नंगा करो, जिनके मन में खोट


(6)
लोगों ने आग सही कितनी
लोगों ने आग कही कितनी


सेंकी तो बहुत बुखारी पर
बच्चों ने आग गही कितनी


संसद में चिनगी भर पहुँची
सड़कों पर आग बही कितनी


आँखों में कडुआ धुआँ-धुआँ
प्राणों में आग रही कितनी


हिम नदी गलानी है, नापें
कविता ने आग दही निकली


(7)
घर के कोने में बैठे हो लगा पालथी, भैया जी
खुले चौक पर आज आपका एक बयान जरूरी है


झंडों-मीनारों-घंटों ने बस्ती पर हल्ला बोला
चिड़ियाँ चीखें, कलियाँ चटखें शर-संधान जरूरी है


मैं सूरज को खोज रहा था संविधान की पुस्तक में
मेरा बेटा बोला - पापा, रोशनदान जरूरी है


जिनके भीतर तंग सुरंगें, अंधकूप तक जाती हैं
उन दरवाजों पर ख़तरे का, बड़ा निशान जरूरी है


(8)
ठीक है - जो बिक गया, खामोश है
क्यों मगर सारी सभा खामोश है


जल रही चुपचाप केसर की कली
चीड़वन क्योंकर भला खामोश है


गरदनों पर उँगलियाँ विष-गैस की
संगमरमर का किला खामोश है


यह बड़े तूफान की चेतावनी
जो उमस में हर दिशा खामोश है


आ गई हाँका लगाने की घड़ी
क्यों अभी तक तू खड़ा खामोश है


(9)
घर से बाहर नहीं निकलना, आज शहर में कर्फ्यू है
लक्ष्मण रेखा पार न करना, आज शहर में कर्फ्यू है


माना चीनी नहीं मिल रही, माना दूध नहीं घर में
फिर भी अच्छा नहीं मचलना, आज शहर में कर्फ्यू है


मस्जिद में अल्लाह न बोला, राम न मंदिर में डोला
खून किया धर्मों ने अपना, आज शहर में कर्फ्यू है


संप्रदाय की मदिरा पीकर, आदम आदमख़ोर हुआ
छाया पर विश्वास न करना, आज शहर में कर्फ्यू है


नोट-वोट का शासन बोले, अलगावों की ही भाषा
इस भाषा को हमें बदलना, आज शहर में कर्फ्यू है


गिरे घरानों का अनुशासन, नारों का जादू टूटे
जनगण सीखे स्वयं सँभलना, आज शहर में कर्फ्यू है


(10)
आग के व्यापारियों ने बाग को झुलसा दिया
और वे दुरबीन से, उठती लपट देखा किए


साधुवेशी तस्करों ने शहर सारा ठग लिया
और वे लवलीन - से सारा कपट देखा किए


साजिशों की सनसनाहट छप गई अखबार में
और वे गमगीन - से खुफिया रपट देखा किए


द्रौपदी दु:शासनों को नोंचती ही रह गई
और वे बलहीन - से छीना-झपट देखा किए


लोग उनसे श्वेतपत्रों के लिए कहते रहे
और वे अतिदीन - से बस श्यामपट देखा किए।

---ऋषभ देव शर्मा

शनिवार, 25 अगस्त 2007

देश : दस तेवरियाँ

(1)
अब न बालों और गालों की कथा लिखिए
देश लिखिए, देश का असली पता लिखिए

एक जंगल, भय अनेकों, बघनखे, खंजर
नाग कीले जायँ ऐसी सभ्यता लिखिए

शोरगुल में धर्म के, भगवान के, यारो!
आदमी होता कहाँ-कब लापता ? लिखिए

बालकों के दूध में किसने मिलाया विष ?
कौन अपराधी यहाँ ? किसकी ख़ता ? लिखिए

वे लड़ाते हैं युगों से शब्दकोषों को
जो मिलादे हर हृदय वह सरलता लिखिए

एक आँगन, सौ दरारें, भीत दीवारें
साजिशों के सामने अब बंधुता लिखिए

लोग नक्शे के निरंतर कर रहे टुकड़े
इसलिए यदि लिख सकें तो एकता लिखिए

(2)
बौनी जनता, ऊँची कुर्सी, प्रतिनिधियों का कहना है
न्यायों को कठमुल्लाओं का बंधक बनकर रहना है

वोटों की दूकान न उजड़े, चाहे देश भले उजड़े
अंधी आँधी में चुनाव की, हर संसद को बहना है

टोपी वाले बांट रहे हैं, मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे
इस बँटवारे को चुप रहकर, कितने दिन तक सहना है

देव तक्षकों के रक्षक हैं, दूध और विष की यारी
मेरठ या कश्मीर सब कहीं, यही रोज़ का दहना है

हम प्रकाश के प्रहरी निकले, कलमें तेज़ दुधारी ले
सूरज इतने साल गह चुका, राहु-केतु को गहना है
(3)
एक ऊँचा तख्त जिस पर भेड़िया आसीन है
और मंदिर में सँपेरा मंत्रणा में लीन है

बात पगड़ी और टोपी की यहाँ तक बढ़ गई
नाचते षड्यंत्र, बजती देशद्रोही बीन है

दे रहे उपदेश में गुरु गोलियाँ उन्माद की
आज पूजा के प्रसादों में मिली कोकीन है

शूल पाँवों के निकालें, शूल लेकर हाथ में
यह समय की है ज़रूरत, नीति यह प्राचीन है

(4)
एक नेता मंच पर कल रो पड़ा
लोग बोले-हो गया अचरज बड़ा

जिस तरफ कुर्सी मिले उस ओर ही
दौड़ जाता "देशभक्तों' का धड़ा

सांप्रदायिकता मिटाने के लिए
दल-समर्थित जाति का प्रतिनिधि खड़ा

एक चिड़िया ने तड़प कर यों कहा
हर समुंदर स्नान से इनके सड़ा

कब घड़ी होगी कि जब यह जनसभा
फोड़ देगी पाप का इनके घड़ा

(5)
किसी को भून डालें वे, हाथ में स्टेनगन लेकर
इन्हें क्या, मौत को ये तो, भुना लेंगे चुनावों में

गला जिनका तराशा है, निरंतर पाँच वर्षों तक
उन्हें भी अब गले अपने, लगा लेगे चुनावों में

कभी जिस गाँव को जाना न देखा, मर रहा कैसे
उसी के अब मसीहा बन, दिखा देंगे चुनावों में

देश टूटे, रहे, जाए, इन्हें क्या काम, इनको तो
सिर्फ कुर्सी दिला दीजे, दुआ देंगे चुनावों में

कब्र में पाँव लटके हैं, कंठ में प्राण हैं अटके
बहुत वोटर खरीदेंगे, जिता देंगे चुनावों में

खिलाड़ी मंच पर उतरे, मदारी मंच के पीछे
बहुत कीचड़ आँकड़ों की उछालेंगे चुनावों में

लगाकर घात बैठे हैं, पक्ष-प्रतिपक्ष दोनों ही
बहुत चालाक मछुए ये, फँसा लेंगे चुनावों में

हमारे हाथ में मोहर, हमारे हाथ में मुहरा
दुरंगे लोकद्रोही को, सज़ा देंगे चुनावों में

(6)
अब भारत नया बनाएँगे, हम वंशज गाँधी के
पुस्तक-अख़बार जलाएँगे, हम वंशज गाँधी के

जनता की पीर हुई बासी, क्या मिलना गाकर भी
बस वंशावलियां गाएँगे, हम वंशज गाँधी के

बापू की बेटी बिकी अगर, इसमें हम क्या कर लें
कुछ नारे नए सुझाएँगे, हम वंशज गाँधी के

खाली हाथों से शंका है, अपराध न हो जाए
इन हाथों को कटवाएँगे, हम वंशज गाँधी के

रथ यात्रा ऊँची कुर्सी की, जब-जब भी निकलेगी
पैरों में बिछते जाएँगे, हम वंशज गाँधी के

(7)
मंच पर केवल छुरे हैं, या मुखौटे हैं
हो गए नाखून लंबे, हाथ छोटे हैं

वे भला कब बाज़ आए, खून पीने से
योजना छल-छद्म हिंसा, कर्म खोटे हैं

हम न समझौता करेंगे, चाकुओं से इन
देश की पसली अभी ये, चीर लौटे हैं

यों धमाके रोज़ घर में जो रहे होते
गिर पड़ेंगे ये बच्चे जो भीत ओटे हैं

हाथ मंत्रित शूल लेकर, यार ! निकलो अब
हर सड़क पर हर गली में, साँप लोटे हैं

(8)
माना कि भारतवर्ष यह, संयम की खान है
झंडे के बीच चक्र का, लेकिन निशान है

अब क्यों न फूल हाथ में तलवार थाम लें
जब तीर बन हवा चली, झोंका कमान है

पागल हुआ हाथी, इसे गोली से मार दें
यह राय बस मेरी नहीं, सबका बयान है

संसद बचा सकी नहीं, कुर्सी ने खा लिया
कितना निरीह देश का, यह संविधान है

उबला समुद्र शांति का, थामे न थमेगा
इसको न और आँच दो, किस ओर ध्यान है

(9)
नस्ल के युद्ध हैं
रंग के युद्ध हैं

युद्ध हैं जाति के
धर्म के युद्ध हैं

मेल को तोड़ते
भेद के युद्ध हैं

देश के तो नहीं
पेट के युद्ध हैं

लोक सेवा कहाँ ?
वोट के युद्ध हैं

जीतने जो हमें
सोच के युद्ध हैं

(10)
पाक सीमा पर बसे इक, गाँव में यह हाल देखा
षोडशी मणि को निगलता, साठवर्षी ब्याल देखा

जब कभी झाँका किसी के, सोच में, ऐसा लगा बस
सड़ रहीं मुर्दा मछलियाँ, एक गदला ताल देखा

भीड़ में बिजली गिराते, अग्निमय भाषण सुने औं'
धर्म के नारे उठाकर, कौन चलता चाल देखा

देश की जब बात आई, एक मोमिन ने बताया
"मैं पढ़ा परदेस में हूँ', साजिशों का जाल देखा

तस्करी की योजनाएँ, अस्त्रशस्त्रों का जख़ीरा
ये मिले जब रोशनी में, खोल करके खाल देखा

जो फ़सल में ज़हर भरती, उस हवा को चीर डालो
गीध खेती नोंचते हैं, द़ृश्य यह विकराल देखा

- डॉ. ऋषभदेव शर्मा

शुक्रवार, 6 जुलाई 2007

रोटी : दस तेवरियाँ

1.
पेट भरा हो तो सूझे है, ताजा रोटी बासी रोटी
पापड़ ही पकवान लगे है, भूख न जाने सूखी रोटी

ऐंठी आँतों की नैतिकता, मोटे सेठों की नैतिकता
भिन्न-भिन्न परिभाषाएँ हैं, रूखी रोटी चुपड़ी रोटी

घसियारों की एस बस्ती में, आदमखोरों की हस्ती में
रोज़ ख़ून के भाव बिके है, काली रोटी गोरी रोटी

आधा तन फुँकता है मिल में, आधा नाचे है महफ़िल में
सब कुछ बेच कमा पाए है, टुकड़ा रोटी आधी रोटी

शासन अनुशासन सिखलाता, पर मालिक चाबुक दिखलाता
संसद बाँट-बाँट खाए है, नेता रोटी मंत्री रोटी

लोकतंत्र का वो दूल्हा है, जिसका ये फूटा चूल्हा है
तपे तवे से हाथ पके हैं, छाला रोटी छैनी रोटी

नैतिक पतन इसे मत कहना, अपराधी की ओर न रहना
सावधान! ये हाथ उठे हैं, भाला रोटी बरछी रोटी

2.
शक्ति का अवतार हैं ये रोटियाँ
शिव स्वयं साकार हैं ये रोटियाँ

भूख में होता भजन, यारो नहीं
भक्ति का आधार हैं ये रोटियाँ

घास खाने के लिए कर दें विवश
अकबरी दरबार हैं ये रोटियाँ

और मत इनको उछालें आप अब
क्रांति का हथियार हैं ये रोटियाँ

तुम बहुत चालाक, टुकड़े कर रहे
युद्ध को तैयार हैं ये रोटियाँ

टोपियों का चूर कर दें राजमद
दर-असल सरकार हैं ये रोटियाँ

तलघरों की क़ैद को तोड़ें, चलो
मुक्ति का अधिकार हैं ये रोटियाँ

3.
उगी रोटियाँ देख बाली गेहूँ की
पकी खड़ी हर खेत बाली गेहूँ की

सफ़र किया बाज़ारों का खलिहान ने
ख़ाली-ख़ाली पेट बाली गेहूँ की

गलियारों में होली की तैयारियाँ
उपजे बीज अनेक बाली गेहूँ की

मिले न अपना ख़ून उनकी मदिरा में
करे बग़ावत एक बाली गेहूँ की

टिड्डी-दल की ख़ैर नहीं इस बार तो
ताने हुए गुलेल बाली गेहूँ की

4.
आज हाथों को सुनो आरी बना लो साथियो
धूप के दुश्मन बड़े वट काट डालो साथियो

सिर्फ़ नारों को हवा में, मत उछालो साथियो
बोझ सबका साथ मिलकर सब उठालो साथियो

रौंदते सारी फ़सल को जानवर जो घूमते
सींग थामो और खेतों से निकालो साथियो

नाग डसने लग रहे हैं देह धरती की, सुनो
तुम गरुड़ बनकर इन्हें अब कील डालो साथियो

रोटियाँ ऐसे सड़क पर तो पड़ी मिलती नहीं
जो महासागर, उन्हीं की तह खँगालो साथियो

जो अँधेरे में भटकती पीढ़ियों का ध्रुव बने
दीप अपने रक्त से वह आज बालो साथियो

सो गए तो याद रखना, देश फिर लुट जायगा
अब उठो हर मोर्चे को खुद सँभालो साथियो

5.
हर दिन बड़ा है आपका, अपना न एक दिन
सब छूरियाँ ठूँठी पड़ीं, कटता न केक दिन

सूरज बदन प' झेलता, मौसम की लाठियाँ
बदले मिज़ाज अभ्र का, खोता विवेक दिन

कुछ गालियाँ देकर कभी, कुछ बाट गोलियाँ
तुम छल चुके हमको, सुनो, अब तक अनेक दिन

कुछ हाथ बढ़ रहे इधर, तुमको तराशने
आकाशबेल! खेल लो. जी लो कुछेक दिन

रोटी जहाँ गिरवी धरी, वह जेल तोड़ दें
अब मुक्त करना है हमें, बंदी हरेक दिन

6.
आँखों में तेज़ाब बन गए, जितने क्वाँरे स्वप्न सजाए
अंग-अंग पर कोड़ों के व्रण, हाथों पर छल-छाले छाए

कुर्सी-नारायण गाथा में, साधु चोर, राजा झूठा है
कलावती कन्या विधवा है, आत्मदाह से कौन बचाए?

चौराहों पर भरी दुपहरी, रोज़ धूप का कत्ल हो रहा
सभी हथेली रची ख़ून में, कौन महावर-हिना रचाए?

गलियारों में सन्नाटा है, नुक्कड़-नुक्कड़ हवा सहमती
उठो, समर्पण की बेला है, समय चीख कर तुम्हें बुलाए

बुझे हुए चूल्हों की तुमको, फिर से आँच जगानी होगी
'रोटी-इष्टि' यज्ञ में यारों! हर कुर्सी स्वाहा हो जाए

7.
रेखाओं के चक्रव्यूह में स्वयं बिंदु ही क़ैद हो गया
यह कैसी आज़ादी आई व्यक्ति तंत्र का दास हो गया

काली ज़हरीली सड़कों पर कोलतार में ख़ून मिल रहा
मेरे भारत में सर्वोदय खंडित स्वर्णिम स्वप्न हो गया

गंगा-यमुना की सब लहरें शीश धुन रही हैं संगम पर
क्यों गुलाब के हर थाले में नागफनी का जन्म हो गया

कुरुक्षेत्र के धर्म क्षेत्र में गीता के उपदेश विफल हैं
दिल्ली-दरवाज़े तक आकर मंत्र क्रांति का स्वाह हो गया

सूखी आँतों, भूखे पेटों को रोटी तो मिल न सकी, पर
रक्त आदमी का कुर्सी के होंठों का सिंगार हो गया

कुर्सी की समिधाओं से अब नई चेतना यज्ञ करेगी
झूठे आश्वासन, नारों से दूषित पर्यावरण हो गया

8.
रात उनके नाचघर में आ गई वर्षा
लोग कहते हैं, शहर में आ गई वर्षा

चीर दी फिर किस जनक ने भूमि की छाती
बिजलियाँ कड़कीं, अधर में आ गई वर्षा

झोंपड़ी तक तो न पहुँची, छोड़कर संसद
लुट गई होगी डगर में, आ गई वर्षा

पड़ गई इतनी दरारें, यह नई छत भी
काँपती आठों पहर में, आ गई वर्षा

पाप की जिन कोठियों में रोटियाँ गिरवी
सब बदलती खंडहर में आ गई वर्षा

ऊसरों में भी उगेंगी, अब नई फ़सलें
लहलहाती खेत भर में, आ गई वर्षा

9.
ईंट, ढेले, गोलियाँ, पत्थर, गुलेलें हैं
अब जिसे भी देखिए, उस पर गुलेलें हैं

आपकी ड्योढी रही, दुत्कारती जिनको
स्पर्शवर्जित झोंपड़ी, महतर गुलेलें हैं

यह इलाक़ा छोड़कर, जाना पड़ेगा ही
टिडिडयों में शोर है, घर-घर गुलेलें हैं

बन गए मालिक उठा, तुम हाथ में हंटर
अब न कहना चौंककर, नौकर गुलेलें हैं

इस कचहरी का यही, आदेश है तुमको
खाइए, अब भाग्य में, ठोकर गुलेलें हैं

क्या पता क्या दंड दे, यह आज क़ातिल को
भीड़ पर तलवार हैं, ख़ंजर गुलेलें हैं

रोटियाँ लटकी हुई हैं बुर्ज के ऊपर
प्रश्न- 'कैसे पाइए' उत्तर गुलेलें हैं

है चटोरी जीभ ख़ूनी आपकी सुनिए,
इस बिमारी में उचित नश्तर गुलेलें हैं

ये निशाने के लिए, हैं सध चुके बाज़ू
दृष्टि के हर छोर पर, तत्पर गुलेलें हैं

तार आया गाँव से, यह राजधानी में
शब्द के तेवर नए, अक्षर गुलेलें हैं

10.
धर्म, भाषा, जाति, दल का, आजकल आतंक है
इन सभी का दुर्ग टूटे, एक ऐसा युद्ध हो

भर दिया भोले मनुज के, कंठ में जिसने ज़हर
वह प्रचारक मंच टूटे, एक ऐसा युद्ध हो

नागरिक के हाथ में जो, द्वेष की तलवार दे
शब्द का वह कोष टूटे, एक ऐसा युद्ध हो

रंग के या नस्ल के हित, जो कि नक़्शा नोच दे
क्रूर वह नाखून टूटे, एक ऐसा युद्ध हो

ख़ून का व्यवसाय करते, लोग कुर्सी के लिए
वोट की दूकान टूटे, एक ऐसा युद्ध हो

भीष्म-द्रोणाचार्य सारे, रोटियों पर बिक रहे
अर्जुनों का मोह टूटे, एक ऐसा युद्ध हो  0

--ऋषभ देव शर्मा

सोमवार, 18 जून 2007

काव्य को अंगार कर दे, भारती


काव्य को अंगार कर दे, भारती
शब्द हों हथियार, वर दे, भारती

हों कहीं शोषण-अनय-अन्याय जो
जूझने का बल प्रखर दे, भारती

सत्य देखें, सच कहें, सच ही लिखें
सत्य, केवल सत्य स्वर दे, भारती

सब जगें, जगकर मिलें, मिलकर चलें
लेखनी में शक्ति भर दे, भारती

हो धनुष जैसी तनी हर तेवरी
तेवरों के तीक्ष्ण शर दे, भारती

हिंसा की दूकान खोलकर, बैठे ऊँचे देश

हिंसा की दूकान खोलकर, बैठे ऊँचे देश
आशंका से दबी हवाएँ, आतंकित परिवेश

अंतरिक्ष तक पहुँच गया है, युद्धों का व्यापार
राजनीति ने नक्षत्रों में, भरा घृणा-विद्वेष

गर्म हवाओं के पंखों पर, लदा हुआ बारूद
'खुसरो' कैसे घर जाएगा, रैन हुई चहुं देश

महाशक्तियाँ रचा रही हैं, सामूहिक नरमेध
हाथ बढ़ाकर अभी खींच लो, कापालिक के केश