समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

मौन बैठे तोड़कर निब जज सभी

मौन बैठे तोड़कर निब जज सभी
लाल स्याही में रँगे काग़ज़ सभी

रूप ने विश्वास को छल कर कहा
प्यार में, व्यापार में जायज सभी

आसनों पर बैठ टीका वेद की
कर रहे जो जन्म से जारज सभी

कल्पना जिसने सजाया था गगन
पहन मृगछाला चली वह तज सभी

जाल को मछली निगलने को चली
जागरण का देख लो अचरज सभी

अब कला के देखिए तेवर नए
सादगी ने जीत ली सजधज सभी (90)

कोई टिप्पणी नहीं: