समर्थक

रविवार, 3 मई 2009

झुग्गियों को यों हटाया जा रहा है

झुग्गियों को यों हटाया जा रहा है
शहर को सुंदर बनाया जा रहा है

बँट रही हैं पट्टियाँ मुँह बाँधने को
मुक्ति का उत्सव मनाया जा रहा है

हर क़लम की जीभ धरकर नींव में अब
सत्य का मंदिर चिनाया जा रहा है

भीड़ गूँगों की जमा है गोलघर में
पाठ भाषा का पढ़ाया जा रहा है

तीर को कुछ और पैना क्यों न कर लें !
नित नया चेहरा चढ़ाया जा रहा है

आख़िरी महफिल सजी है आज उनकी
शब्द उँगली पर नचाया जा रहा है (77)

कोई टिप्पणी नहीं: