समर्थक

गुरुवार, 14 जुलाई 2011

हो गया है देखिए कितना कमीना आदमी

हो गया है देखिए कितना कमीना आदमी
यह घड़ा है देखिए चिकना कमीना आदमी

लाल नीली पगड़ियाँ औ' धवलवर्णी टोपियाँ
ओढ़, चूनर छीनता फ़ितना कमीना आदमी

बालकों का खून पीता, औरतों को नोचता
आदमी को लूटता  इतना कमीना आदमी

डाकखाने खा रहे यूँ चिट्ठियों को, बेशरम
दोस्त जासूसी करें, लिखना - कमीना आदमी  

हर सड़क को हाथ में खंजर थमाना ही पड़ा
दूसरा कोई नहीं जितना कमीना आदमी     [124]

09 /07 /1982  

1 टिप्पणी:

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

‘बालकों का खून पीता, औरतों को नोचता
आदमी को लूटता इतना कमीना आदमी’

उस कमीने आदमी के सीने में दिल नहीं है... बस... खून की पिपासा का पिशाच बहा है आदमी॥