समर्थक

रविवार, 31 जुलाई 2011

घर बगिया खलिहान सजग हैं

घर बगिया खलिहान सजग हैं
दीवारों के कान सजग हैं

चुग न सकोगे मेरी फसलें
जब तक खड़े मचान सजग हैं

शीश महल के स्वप्न बिखरते
कच्चे सभी मकान सजग हैं

चक्र व्यूह शोषण के टूटें
तीखे तीर कमान सजग हैं

भाग्य विधाता! अधिनायक! सुन;
जन गण के जय गान सजग हैं!!    [126]

20 नवंबर 1981  

1 टिप्पणी:

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

धीरे धीरे बोल/ दीवारों के कान सजग है ॥